Public Haryana News Logo

चीन सीमा पास, सुखोई में 25 मिनट की उड़ान... प्रतिभा पाटिल-अब्दुल कलाम से कैसे अलग थी राष्ट्रपति मुर्मू की उड़ान

 | 
देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने आज असम के तेजपुर एयरफोर्स स्टेशन से सुखोई-30 MKI फाइटर जेट में अपनी पहली उड़ान भरी. द्रौपदी मुर्मू फाइटर जेट से उड़ान भरने वालीं चौथी राष्ट्रपति बन गई हैं. उनसे पहले पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, प्रतिभा पाटील और रामनाथ कोविंद भी फाइटर जेट्स में उड़ान भर चुके हैं. हालांकि द्रौपदी मुर्मू की ये उड़ान बाकी राष्ट्रपतियों की उड़ान से अलग है.    देश का राष्ट्रपति तीनों सेनाओं की सुप्रीम कमांडर होता है. इसी को लेकर राष्ट्रपति को सेना की ताकतों, हथियारों और नीतियों से अवगत कराया जाता है. इसी के तहत राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने सुखोई फाइटर जेट के जरिए उड़ान भरी है. हालांकि उनकी ये उड़ान पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, प्रतिभा पाटील और रामनाथ कोविंद की उड़ान से अलग है. दरअसल इन राष्ट्रपतियों के फाइटर जेट के एयरफोर्स स्टेशन पुणे थे, जबकि राष्ट्रपति मुर्मू ने असम के तेजपुर एयरफोर्स स्टेशन से सुखोई-30 MKI फाइटर जेट से उड़ान भरी, जोकि भारत-चीन बॉर्डर के पास है. वायुसेना के ग्रुप कैप्टन नवीन कुमार तिवारी ने उन्हें सुखोई-30 MKI में उड़ाया.   फाइल फोटो

 

द्रौपदी मुर्मू फाइटर जेट से उड़ान भरने वालीं चौथी राष्ट्रपति बन गई हैं. उनसे पहले पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, प्रतिभा पाटील और रामनाथ कोविंद भी फाइटर जेट्स में उड़ान भर चुके हैं. हालांकि द्रौपदी मुर्मू की ये उड़ान बाकी राष्ट्रपतियों की उड़ान से अलग है. 

देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने आज असम के तेजपुर एयरफोर्स स्टेशन से सुखोई-30 MKI फाइटर जेट में अपनी पहली उड़ान भरी. द्रौपदी मुर्मू फाइटर जेट से उड़ान भरने वालीं चौथी राष्ट्रपति बन गई हैं. उनसे पहले पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, प्रतिभा पाटील और रामनाथ कोविंद भी फाइटर जेट्स में उड़ान भर चुके हैं. हालांकि द्रौपदी मुर्मू की ये उड़ान बाकी राष्ट्रपतियों की उड़ान से अलग है. 

देश का राष्ट्रपति तीनों सेनाओं की सुप्रीम कमांडर होता है. इसी को लेकर राष्ट्रपति को सेना की ताकतों, हथियारों और नीतियों से अवगत कराया जाता है. इसी के तहत राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने सुखोई फाइटर जेट के जरिए उड़ान भरी है. हालांकि उनकी ये उड़ान पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, प्रतिभा पाटील और रामनाथ कोविंद की उड़ान से अलग है. दरअसल इन राष्ट्रपतियों के फाइटर जेट के एयरफोर्स स्टेशन पुणे थे, जबकि राष्ट्रपति मुर्मू ने असम के तेजपुर एयरफोर्स स्टेशन से सुखोई-30 MKI फाइटर जेट से उड़ान भरी, जोकि भारत-चीन बॉर्डर के पास है. वायुसेना के ग्रुप कैप्टन नवीन कुमार तिवारी ने उन्हें सुखोई-30 MKI में उड़ाया. 

फाइल फोटो

अपने शहर से जुड़ी हर बड़ी-छोटी खबर के लिए

Click Here