Movie prime

 World Milk Day: क्या है वर्ल्ड मिल्क डे मनाने की वजह, कब हुई इसकी शुरुआत?

 
World Milk Day: क्या है वर्ल्ड मिल्क डे मनाने का कारण, कब हुई थी इसकी शुरुआत?
 

World Milk Day: दूध की खूबियों से हम सभी वाकिफ हैं. हमें हमेशा दूध पीने की और इससे बनी खाद्य पदार्थों को खाने और पीने की सलाह दी जाती है. घर से लेकर डॉक्टर्स तक हमें दूध का सेवन करने की सलाह देते हैं. दूध में और दुग्ध उत्पादों में काफी मात्रा में शरीर के लिए जरूरी विटामिन्स, कैलशियम पाए जाते हैं. इन्हीं खूबियों की वजह से हर उम्र के लोग, चाहे वो बच्चे हों या बूढ़े इसका सेवन करते हैं. आज वर्ल्ड मिल्क डे के मौके पर आइये जानते हैं दूध के बारे में सबकुछ.  

डेयरी उत्पादों का बढ़ावा
1 जून को हर साल वर्ल्ड मिल्क डे मनाया जाता है. इस दिन को मनाने के पीछे का मकसद दुनिया में डेयरी उत्पादों का बढ़ावा देना और उनसे जुड़ी गतिविधियों के बारे में जानकारी मुहैया करना होता है. इसके साथ ही वर्ल्ड मिल्क डे के माध्यम से डेयरी और इससे जुड़े लोगों को समर्थन देने का प्रयास किया जाता है.

क्या है इतिहास
संयुक्त राष्ट्र खाद्द और कृषि संगठन द्वारा साल 2001 में विश्व दुग्ध दिवस की स्थापना की गई थी. इसी के साथ वर्ल्ड मिल्क डे की शुरुआत हुई. मौजूदा समय में 1 जून को कई देशों में विश्व दुग्ध दिवस मनाया जाता है. इस दिन को मनाने के पीछे का कारण डेयरी और डेयरी प्रोडक्ट्स को बढ़ावा देना है. साथ ही लोगों को इसकी आवश्यकता और इसके लाभ के बारे में भी जानकारी देने के लिए की विश्व दुग्ध दिवस की शुरुआत की गई थी. 

एक अरब से ज्यादा लोगों को रोजगार
डेयरी क्षेत्र से करीब 1 अरब से ज्यादा लोगों की जीविका जुड़ी हुई है. दुग्ध स्थानीय लोगों के अर्थव्यवस्था और समुदायों को लाभ पहुंचाता है. एफएओ के मुताबिक, पूरे विश्व में करीब 6 अरब से ज्यादा लोग डेयरी प्रोडक्ट्स का उपयोग करते हैं. इसके साथ ही इस उद्योग से करीब 1 अरब से ज्यादा लोगों को रोजगार मिलता है. 

साल 2023 वर्ल्ड मिल्क डे की थीम
वर्ल्ड मिल्क डे के लिए हर साल एक थीम तैयार की जाती है. बता दें, किसी भी खास मकसद से मनाए जाने वाले दिन के लिए हर साल कोई ना कोई थीम बनाया जाता है. इस साल के मिल्क डे का थीम इस बात पर जोर देने के लिए बनाया गया है कि कैसे दूध पौष्टिक आहार के साथ आजीविका पैदा करता है और एनवायरमेंट का फूटप्रिंट्स घटाता है. 

WhatsApp Group Join Now