Public Haryana News Logo

यूपी सरकार ने किया वरिष्ठ नागरिकों का मौज! अब 1 मिनट में मदद मिलेगी

 | 
 यूपी सरकार ने किया वरिष्ठ नागरिकों का मौज! अब 1 मिनट में मदद मिलेगी
 

वरिष्ठ नागरिक: उत्तर प्रदेश सरकार बुजुर्गों को परेशान करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर रही है. बुजुर्गों को प्रताड़ित करने वालों को कड़ी सजा दी जाएगी। बुजुर्ग हेल्पलाइन पर संपर्क कर अपनी समस्या का समाधान करवा सकते हैं।


वरिष्ठ नागरिक सहायता: बुजुर्गों को परेशान करने वालों का अब स्वागत नहीं है। समाज कल्याण विभाग के फील्ड रिस्पांस अधिकारी पुलिस सहित मौके पर जाएंगे और ऐसे लोगों की जानकारी लेंगे। राज्य समाज कल्याण विभाग ने वरिष्ठ नागरिकों के उत्पीड़न को रोकने और उनकी अन्य समस्याओं को हल करने के लिए केंद्र सरकार की योजना के तहत एक हेल्पलाइन शुरू की है। इस व्यवस्था के तहत पुलिस और समाज कल्याण विभाग मिलकर काम करेंगे।

परेशानी होने पर 14567 डायल करें

कोई भी परेशान बुजुर्ग अपनी समस्या के समाधान के लिए एल्डर हेल्पलाइन 14567 पर संपर्क कर सकते हैं। बुजुर्गों की समस्याओं को सुनकर हेल्पलाइन पर न केवल काउंसलिंग की जाती है, बल्कि यह भी निर्णय लिया गया है कि मौके पर समाज कल्याण विभाग के कर्मियों को भेजकर संबंधित परिवार के सदस्यों, पड़ोसियों और विभागीय अधिकारियों से संपर्क किया जाएगा.

दुर्व्यवहार या मारपीट करने वाले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी। बुजुर्गों की बढ़ती समस्या का आलम यह है कि नई हेल्पलाइन पर शुरूआती दौर में रोजाना 800 से 900 मामले दर्ज हो रहे हैं।

सुबह 7 बजे से रात 8 बजे तक सुविधाएं

राज्य के समाज कल्याण राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार असीम अरुण की पहल पर 17 मई को शुरू की गई बुजुर्ग हेल्पलाइन 14567 पर सप्ताह के सातों दिन सुबह सात बजे से रात आठ बजे तक संपर्क किया जा सकता है.


यूपीकॉन के सहयोग से संचालित हेल्पलाइन राज्य के किसी भी हिस्से के बुजुर्ग लोगों को अपने उत्पीड़न की शिकायत करने और कानूनी मार्गदर्शन और भावनात्मक समर्थन प्राप्त करने की अनुमति देती है।

इस हेल्पलाइन पर फोन कर बुजुर्ग अपनी मानसिक, शारीरिक, आर्थिक और सामाजिक तथा अन्य कोई भी समस्या साझा कर सकते हैं।

35 फील्ड रिस्पांस ऑफिसर तैनात

समाज कल्याण विभाग के उप निदेशक व बुजुर्ग हेल्पलाइन के प्रभारी अधिकारी कृष्ण प्रसाद ने बताया कि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में कुल 35 फील्ड रिस्पांस ऑफिसर और फील्ड रेस्पॉन्स लीडर तैनात किए गए हैं.

हेल्पलाइन पेंशन, परिवार व अन्य समस्याओं के समाधान के साथ ही बुजुर्गों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने में उपयोगी साबित होगी।

हेल्पलाइन से तथ्य

रोजाना करीब 900 मामले दर्ज हो रहे हैं। लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज, वाराणसी, आगरा, गोरखपुर जैसे बड़े शहरों से ज्यादा शिकायतें

इनमें से अधिकांश पारिवारिक उत्पीड़न, पेंशन जारी न करना, पेंशन के लिए केवाईसी मुद्दे, भूमि और संपत्ति विवाद हैं


पारिवारिक शोषण ज्यादातर बच्चों और रिश्तेदारों द्वारा बड़ों द्वारा संपत्ति के बंटवारे के बाद आपस में लड़ने और फिर बड़ों को परेशान करने के कारण होता है।

बुजुर्ग पुलिस कार्रवाई नहीं चाहते हैं तो बच्चों व रिश्तेदारों को लिखित में आश्वासन दिया जाता है कि बुजुर्गों को परेशान न करें।

भविष्य में एक पखवाड़े से लेकर एक माह तक वीडियो मंगवाकर निगरानी की जाती है कि परिजन बुजुर्गों को समय पर भोजन पानी दे रहे हैं, उन्हें फिर कोई परेशानी न हो।

इस तरह बुजुर्गों को राहत मिली

रायबरेली के राम प्रकाश त्रिवेदी ने अपने भतीजे द्वारा परेशान किए जाने की शिकायत करते हुए एल्डर हेल्पलाइन पर संपर्क किया। टीम ने तुरंत उनके भतीजे से संपर्क किया।

बातचीत से समस्या का समाधान हुआ। भतीजे को अपनी गलती का अहसास हुआ और उसने वृद्ध से माफी मांगी। उन्होंने भविष्य में ऐसी गलती नहीं करने का आश्वासन दिया।


बहराइच के नगर कोतवाली क्षेत्र में मिथलेश श्रीवास्तव के मकान की कुछ खाली जमीन पर बदमाशों ने कब्जा कर मकान बना लिया है. इस पर कानूनी सलाह के लिए एल्डर हेल्पलाइन से संपर्क किया गया।

टीम ने मौके पर जाकर वृद्ध की पूरी समस्या बताई और संबंधित थाने की पुलिस को बुलाकर मामले की जांच की गई। भूमि विवाद पर उचित कार्रवाई के लिए उप जिलाधिकारी बहराइच को आवेदन दिया गया। मामला कोर्ट में भेजा गया।

कन्नौज की छिबरामऊ तहसील की श्रीमती रामकली ने हेल्पलाइन पर संपर्क कर बताया कि पति के देहांत के बाद उन्हें विभागीय पेंशन मिली थी लेकिन उसके बाद से उन्हें बढ़ा हुआ बकाया नहीं मिला है.

टीम ने वृद्ध महिला से पेंशन संबंधी दस्तावेज लेकर वरिष्ठ कोषाध्यक्ष से संपर्क किया और उनके सहयोग से वृद्धा को 2,03,543 रुपये की बढ़ी हुई राशि दिलवाने में मदद की.

अपने शहर से जुड़ी हर बड़ी-छोटी खबर के लिए

Click Here