Movie prime

 हरियाणा में बीजेपी-जेजेपी के बीच तकरार? गठबंधन को लेकर हरियाणा के सीएम खट्टर ने दिया बयान, देखें वीडियो

 
BJP-JJP

Haryana BJP-JJP Crisis : हरियाणा में वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के बीच गठबंधन सरकार चल रही है, लेकिन मतभेद दिनों-दिन बढ़ रहे हैं।

इसके परिणामस्वरूप, अटकलें उठाई जा रही हैं कि हरियाणा में दोनों दलों के बीच में समझौता नहीं होने की स्थिति हो सकती है और गठबंधन टूट सकता है। हालांकि, राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इन अटकलों को खारिज करते हुए यह कहा है कि कोई समस्या नहीं है और दोनों दल मिलकर सरकार का काम जारी है।

हरियाणा में आगामी साल लोकसभा चुनाव के साथ-साथ विधानसभा चुनाव भी होने वाले हैं। इस संदर्भ में, हरियाणा के भाजपा प्रभारी बिप्लब कुमार देव ने हाल ही में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के खिलाफ आलोचनाएं उठाई थीं, जिसे जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) काफी नाराज है।

Haryana BJP-JJP Crisis : हरियाणा में वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के बीच गठबंधन सरकार चल रही है, लेकिन मतभेद दिनों-दिन बढ़ रहे हैं।
इसके परिणामस्वरूप, अटकलें उठाई जा रही हैं कि हरियाणा में दोनों दलों के बीच में समझौता नहीं होने की स्थिति हो सकती है और गठबंधन टूट सकता है। हालांकि, राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इन अटकलों को खारिज करते हुए यह कहा है कि कोई समस्या नहीं है और दोनों दल मिलकर सरकार का काम जारी है।

हरियाणा में आगामी साल लोकसभा चुनाव के साथ-साथ विधानसभा चुनाव भी होने वाले हैं। इस संदर्भ में, हरियाणा के भाजपा प्रभारी बिप्लब कुमार देव ने हाल ही में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के खिलाफ आलोचनाएं उठाई थीं, जिसे जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) काफी नाराज है।


हालांकि, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इस मामले पर स्पष्टीकरण करते हुए कहा है कि “प्रभारी संगठन के लिए होते हैं, सरकार के लिए नहीं। उनके सामर्थ्य के आगे एक चुनाव है और इसके साथ ही दूसरा चुनाव भी है। उन्हें इस बात का ध्यान रखना चाहिए और वे अपने विचारों को सोचते होंगे। मैं उनके बारे में कोई टिप्पणी नहीं कर सकता।”


 


सीएम खट्टर द्वारा शनिवार को आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में, उन्हें बीजेपी-जेजेपी गठबंधन के भविष्य के बारे में प्रश्न पूछा गया था। इस पर उन्होंने कहा, “संगठन के काम अपनी जगह होते हैं, सरकार के काम अपनी जगह होती है। हम सरकार चला रहे हैं और कोई समस्या नहीं है।”

इसके साथ ही, उन्होंने यह भी कहा, “हमारा गठबंधन चुनावी उद्देश्यों के लिए नहीं था, यह दोनों पार्टियों की आवश्यकता थी और जनहित में इसे किया गया। जनहित में सबसे महत्वपूर्ण चीज है। उस समय बहुमत नहीं था और हमें कुछ करके बहुमत प्राप्त करने के लिए समझौता करना पड़ा। उस समय जेजेपी के साथ निर्दलीयों ने भी समर्थन दिया।”

बता दें कि हरियाणा के पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 90 सदस्यीय विधानसभा में 40 सीटें जीती थीं, वहीं जेजेपी ने 10 सीटों पर जीत दर्ज की थी। ऐसे में दोनों दनों ने सरकार गठन के गठबंधन का फैसला किया था। तब राज्य के 7 निर्दलीय विधायकों में से 6 ने भी बीजेपी का समर्थन किया था।

WhatsApp Group Join Now