Public Haryana News Logo

डेयरी फार्मिंग: डेयरी फार्मिंग खोलें, यहां दूधारू पशुधन पर मिल रही बंपर छूट

 | 
Dairy Farming: डेयरी खोलकर करें तगड़ी कमाई, दुधारू पशु खरीदने पर मिलेगी बंपर सब्सिडी
 Subsidy on Dairy Farming:हरियाणा सरकार द्वारा डेयरी फार्मिंग के लिए सब्सिडी प्रदान की जा रही है। हाईटेक और मिनी डेयरी स्कीम के तहत किसानों को सब्सिडी दी जाती है ताकि वे डेयरी व्यवसाय की शुरुआत कर सकें। सब्सिडी के माध्यम से किसानों की आर्थिक सहायता की जाती है और गुणवत्ता वाले पशुओं को पालने में सहायता प्रदान की जाती है।
 इसके अलावा, पशुपालन क्रेडिट कार्ड योजना के तहत भी किसानों को ऋण प्रदान किया जाता है जिससे कि वे अपनी डेयरी व्यवसायिक गतिविधियों को प्रगति दे सकें। इसके अलावा, दूध उत्पादन को बढ़ाने के लिए भी प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है और देसी नस्ल की छोटी डेयरी बढ़ाने के लिए भी अनुदान योजना है। इन सभी योजनाओं के माध्यम से हरियाणा सरकार किसानों को उनके डेयरी व्यवसाय की सहायता प्रदान करने का प्रयास कर रही है।

यह सब्सिडी समृद्धि व्यवसाय की शुरुआत करने वाले किसानों को उनके खर्चों को कम करने में मदद करेगी और उन्हें उच्चतम गुणवत्ता वाले पशुओं को पालने में भी सहायता प्रदान करेगी। इससे डेयरी उत्पादन में वृद्धि होगी और डेयरी उत्पादों की व्यापार में भी वृद्धि होगी, जिससे किसानों की आय बढ़ेगी और उन्हें सुविधाएं मिलेंगी। इस तरह से, हरियाणा सरकार अपने किसानों को उनके डेयरी व्यवसाय के लिए समर्थन प्रदान कर रही है और उनकी आर्थिक स्थिति को मजबूत करने का प्रयास कर रही है।

कितनी मिलेगी सब्सिडी

ट्वीट के मुताबिक, हाईटेक और मिनी डेयरी स्कीम के तहत 10 दुधारू पशुओं तक की मिनी डेयरी (Mini Dairy) खोलने के लिए पशु की लागत पर 25% सब्सिडी (Subsidy) दी जाएगी. जबकि अनुसूचित जाति के किसानों को 50 फीसदी सब्सिडी मिलेगी. वहीं, 20 से अधिक दुधारू पशुओं की हाईटेक डेयरी (Hitech Dairy) स्थापित करने के लिए ब्याज में छूट दी जाएगी.

पशुपालन क्रेडिट कार्ड के तहत 1.60 लाख का लोन


मुख्यमंत्री ने कहा, मौजूदा सरकार ने राज्य में अब तक 13,244 डेयरियां स्थापित करायी हैं. पशुपालन के लिए पूंजी की जरूरत होती है. उस पूंजी की जरूरत को पूरा करने के लिए बैंकों से योजना बनाई है. इसके लिए विशेष योजना में पशुपालन किसान क्रेडिट कार्ड योजना शुरू किया. पशुपालन क्रेडिट कार्ड के तहत 1,60,000 रुपये का लोन बिना किसी सिक्योरिटी के मिलता है. 154000 पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड बैंकों द्वारा दिए गए हैं.

5 रुपए प्रति लीटर प्रोत्साहन राशि

दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए राज्य सरकार ने विशेष प्रोत्साहन योजना बनाई है. सहकारी दुग्ध समितियों के दुग्ध उत्पादकों को 5 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से प्रोत्साहन राशि दी जाती है.


देसी नस्ल की छोटी डेयरी बढ़ाने के लिए गौ समर्थन की दृष्टि से तीन से आठ गांवों के डेयरी लगाने वाले पशुपालकों को 50 फीसदी अनुदान देने की योजना अलग से बनाई गई है.

अपने शहर से जुड़ी हर बड़ी-छोटी खबर के लिए

Click Here