Public Haryana News Logo

क्या है बायपरजॉय का सामना करने की तैयारी? जानिए रेड अलर्ट से जुड़ी हर छोटी से छोटी बात

 | 
बिपोरजोय का सामना करने की क्या है तैयारी? जानें रेड अलर्ट से जुड़ी हर छोटी-बड़ी बात
 

नई दिल्ली:  चक्रवाती तूफान "बिपोरजोय" ने अपना रास्ता उत्तर-पूर्व दिशा में जारी रखा है और उम्मीद है कि यह गुरुवार को कच्छ के तट पर पहुंचेगा। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार, बिपोरजोय जखौ बंदरगाह से लगभग 170 किलोमीटर दूर है। चक्रवाती तूफान के आने के चलते सौराष्ट्र और कच्छ के तटों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है।

यदि आपके पास तूफान से सुरक्षित रहने के लिए संबंधित तटीय क्षेत्रों में अपडेटेड सलाह या निर्देशों की आवश्यकता होती है, तो आपको स्थानीय प्रशासन और मौसम विभाग की सलाह का पालन करना चाहिए। वे आपको सटीक और नवीनतम जानकारी प्रदान करेंगे।

चक्रवात बिपोरजोय ने वाकई अपना रास्ता उत्तर-पूर्व दिशा में जारी रखा है और भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने यह भविष्यवाणी की है कि इसकी उम्मीद है कि यह गुरुवार शाम कच्छ के तट पर पहुंचेगा। इस चक्रवात के कारण कच्छ जिले में भारी बारिश और तेज हवाएं चलेंगी, जो मौसम के बदलाव के साथ आ सकती हैं।

कृपया ध्यान दें कि चक्रवाती तूफानों के माध्यम से होने वाले मौसम परिवर्तन अनियंत्रित होते हैं और बारिश और हवाओं की गति की विस्तारित जानकारी स्थानीय मौसम विभाग या संबंधित अधिकारिक वेबसाइट से प्राप्त की जा सकती है। इसलिए, अपडेटेड मौसम सूचना के लिए स्थानीय प्रशासन और मौसम विभाग के निर्देशों का पालन करें।

कच्छ तटों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया
आईएमडी के अनुसार बिपोरजोय जखाऊ बंदरगाह से लगभग 170 किमी दूर है. चक्रवात के आने की चेतावनी देते हुए सौराष्ट्र और कच्छ तटों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है. आईएमडी ने भविष्यवाणी की है कि चक्रवात गुरुवार शाम जखाऊ पोर्ट के पास लैंडफॉल करेगा. अधिकारियों ने निवासियों को चक्रवात से जुड़े संभावित जोखिमों के बारे में सतर्क किया है.

गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने चक्रवात प्रभाव के लिए तैयारियों और प्रतिक्रिया योजनाओं का आकलन करने के लिए आज सुबह गांधीनगर में राज्य आपातकालीन संचालन केंद्र में एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की. सरकार चक्रवात के संभावित प्रभाव को कम करने और निवासियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आईएमडी के साथ मिलकर काम कर रही है.

अधिकारियों ने पूरी कर ली हैं आवश्यक तैयारियां
जामनगर हवाई अड्डे पर सभी उड़ानें निलंबित कर दी गई हैं. चक्रवात से निपटने के लिए हवाई अड्डे के अधिकारियों ने आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली हैं. एयरमेन को नोटिस जारी किया गया है कि 16 जून दोपहर 1:30 बजे तक सभी उड़ाने निलंबित रहेंगी.

अब तक 94,000 से अधिक लोग सुरक्षित स्थानों पर चले गए हैं. राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहा है और बचाव कार्यों का समन्वय कर रहा है. महानिरीक्षक (आईजी) एन.एस. बुंदेला ने जीवन की सुरक्षा के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को उजागर करते हुए यह अपडेट प्रदान किया.

चक्रवात बिपोरजोय पर क्या बोले एनडीआरएफ महानिदेशक
राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के महानिदेशक (डीजी) अतुल करवाल ने बृहस्पतिवार को कहा कि गुजरात में समुद्री चक्रवात बिपोरजोय के संभावित खतरे को देखते हुए तटीय क्षेत्रों से लगभग एक लाख लोगों को निकालकर सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है. उन्होंने कहा कि एनडीआरएफ सहित अन्य एजेंसियां यह सुनिश्चित करने का प्रयास कर रही हैं कि चक्रवात से जान-माल का कम से कम नुकसान हो.

अपने शहर से जुड़ी हर बड़ी-छोटी खबर के लिए

Click Here