Public Haryana News Logo

गेहूं की तूड़ी का रिकॉर्ड तोड़ा, पिछले 80 साल में नहीं हुआ इतना रेट जानिये आज का रेट

 | 
 गेहूं की तूड़ी का रिकॉर्ड तोड़ा, पिछले 80 साल में नहीं हुआ इतना रेट जानिये आज का रेट
 

पशुओं के चारे के दाम आसमान छू रहे हैं। अलवर में पशु चारा और खाद्यान्न के दाम एक समान हो गए हैं. ऐसा 70 साल में पहली बार हुआ है, ऐसे में किसानों के सामने भी संकट खड़ा हो गया है.

अलवर में पशु चारा और खाद्यान्न के दाम एक समान हो गए हैं। ऐसा 70 साल में पहली बार हुआ है जब पशु आहार के दाम आसमान छू रहे हैं। ऐसे में किसानों के सामने भी संकट खड़ा हो गया है। अलवर के बानसूर गांव की 60 वर्षीय महिला और पशुपालक रमा देवी ने कहा कि पशुओं का चारा पहले कभी इतना महंगा नहीं हुआ।

अभी बाजरे की कीमत करीब 1400 सौ रुपये और तुड़ी की कीमत 1500 से 1600 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है। इससे पशुपालकों के सामने बड़ा संकट खड़ा हो गया है।

पशुओं को अधिक बाजरा खिलाना:

पशुपालकों का कहना है कि यह बात सही है कि तूड़ी की कीमत बाजरे की कीमतों के बराबर है. इस वजह से पशुओं को बाजरा बराबर मात्रा में दिया जा रहा है। पढ़ाई की कमी है। गांवों में तो यह हाल है कि तुड़ी तक नहीं मिल रही है। गेहूं और जौ के कतरने वाले आसपास नहीं हैं। इस कारण हरियाणा और पंजाब से तूड़ी के बड़े डंपर मंगवाकर यहां पशुपालकों को बेचे जा रहे हैं। कुछ लोगों ने यहां पंजाब और हरियाणा से तुड़ी बेचने का धंधा शुरू किया है।

पशुओं का चारा भी महंगा :

इस समय पशु चारा भी महंगा है। चूरा का भाव 2200 रुपए प्रति क्विंटल है। खल करीब 13 सौ रुपये, काकरा 42 सौ रुपये और बाजार करीब 16 सौ रुपये है। यह सब पहले से ज्यादा महंगा हो गया है। अब तूड़ी भी बाजरे के भाव के बराबर पहुंच गई है। इस वजह से पशुपालकों को पशुओं को चराना महंगा पड़ गया है।


दूध के दाम ज्यादा नहीं:

पशुपालन का कहना है कि चारा समेत अन्य खाद्य सामग्री काफी महंगी हो गई है। लेकिन दूध के दाम पहले जैसे ही हैं। गांवों में दूध औसतन 45 से 50 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। जबकि शिक्षा की कीमत अधिक है। वर्तमान स्थिति में पशुपालकों को कोई बचत नहीं हो पा रही है। जितना पशु खा रहा है उतना दूध नहीं बिक रहा है। पशुपालक ने सारा खर्चा उठाने के बाद घाटा उठाना शुरू कर दिया है। पशुपालकों की यह चिंता बढ़ गई है।

दरअसल पिछली बार सरसों के भाव अधिक रहने से इस बार गेहूं और जौ की बोवनी काफी कम हुई है. सरसों का रकबा बहुत अधिक है। यदि गेहूँ की उपज कम होगी तो गेहूँ का उत्पादन भी कम होगा। इस वजह से कीमत ज्यादा रहने की संभावना है।

अपने शहर से जुड़ी हर बड़ी-छोटी खबर के लिए

Click Here